- Breaking News, नागपुर समाचार, मनपा, विदर्भ

नागपुर : महापौर संदीप जोशी का इस्तीफा, दयाशंकर तिवारी अगले महापौर 

महापौर संदीप जोशी का इस्तीफा, दयाशंकर तिवारी अगले महापौर

नागपुर : पिछले वर्ष 2019 के 22 नवंबर को मनपा में सत्तापक्ष के वरिष्ठ नगरसेवक संदीप जोशी को 13 माह के महापौर बनाया गया थाा। शेष 13 माह के लिए भाजपा के वरिष्ठ नगरसेवक दयाशंकर तिवारी को बनाये जाने की घोषणा की गई थी। महापौर संदीप जोशी ने आज अपने 13 माह के कार्यकाल के समापन पर इस्तीफा देने की घोषणा एक पत्र परिषद के माध्यम से दी।

आज शाम उन्होंने मनपायुक्त राधाकृष्णन बी को इस्तीफा दे दिया। इनके साथ ही उपमहापौर मनीषा कोठे ने भी अपने पद से इस्तीफा दे दिया। जोशी ने इसके साथ ही अगले महापौर दयाशंकर तिवारी के नाम की घोषणा करने के साथ ही साथ उनके नेतृत्व में अपने कार्यकाल के आधे-अधूरे कामकाजों को पूर्ण करने की कोशिश करेंगे। उपमहापौर मनीषा कोठे के इस्तीफे के बाद नए नाम की जल्द घोषणा करने की जानकारी शहर भाजपा अध्यक्ष प्रवीण दटके ने दी। यह भी संभावना जताई जा रही कि कोठे के स्थान पर वर्षा ठाकरे या दिव्या धुरडे का नंबर लग सकता हैं।

महापौर संदीप जोशी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि वे अगला मनपा चुनाव नहीं लड़ेंगे और न ही पार्टी से बगावत करेंगे। सामान्य कार्यकर्ता की भांति पक्ष के साथ निष्ठावान रहूंगा। 

MVA द्वारा OCW प्रकल्प की जांच के सवाल पर जोशी ने कहा कि यह प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में पुरस्कृत प्रकल्पों में से एक हैं। इसमें कोई धांधली नहीं हुई,यह प्रकल्प अन्य शहरों में भी अपनाया जाना चाहिए। कांग्रेस की 55 साल के कार्यकाल में शहर में सिर्फ 15 पानी की टंकी बनाई गई। भाजपा के 15 साल के कार्यकाल में शहर के जरूरतानुसार पानी की टंकी का निर्माण किया गया और जारी हैं। 

MVA चुनावी वर्ष में मनपा की निधि रोक कर विकासकार्यो को बाधा पहुंचाकर अगला मनपा चुनाव जीतने की रणनीति रच रही। जो कभी पूरा नहीं होने वाली। SAI प्रकल्प पर जांच लाधने की कोशिश कर रही।

जोशी ने आगे कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में 3 आयुक्त के कामकाजों का अनुभव लिया। मुंढे के कार्यशैली से महापौर निधि के प्रकल्प अधूरे रह गए। राधाकृष्णन बी. के कार्यकाल में कोरोना मरीजों के लिए बेहतर सुविधा मुहैय्या करवाई गई।

और अंत में स्थाई समिति सभापति के बजट मंजूर बाद इम्प्लीमेंट शुरू न करने के सवाल पर जोशी ने कहा कि कानूनन इम्प्लीमेंट हो जाना चाहिए था लेकिन MVA के दबाव में अटका हुआ हैं। जरूरत पड़ा तो इसके लिए संघर्ष भी करेंगे। पत्र परिषद में उपमहापौर मनीषा कोठे, शहर भाजपा अध्यक्ष व एमएलसी प्रवीण दटके, भावी महापौर दयाशंकर तिवारी, सत्तापक्ष नेता संदीप जाधव, स्थाई समिति सभापति पिंटू झलके आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.