- नागपुर समाचार

आरा मशीन व्यवसाय को अत्यावश्यक सेवा में शामिल करें विदर्भ रूरल इंडस्ट्रीज एसोसिएशन का जिल्हाधिकारी को ज्ञापन

नागपुर समाचार : विदर्भ रूरल इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष फारूखभाई अकबानी के नेतृत्व में एसो. प्रतिनिधिमंडल ने जिलाधिकारी रविन्द्र ठाकरे को नागपुर ग्रामीण क्षेत्र में स्थापित लकड़ा उद्योगों को लॉकडाउन के कारण हो रहे आर्थिक नुकसान से अवगत कराते हुए लकड़ा उद्योग एवं आरामशीन को अत्यावश्यक सेवा में शामिल कर, इन्हें शुरू करने की अनुमति देने हेतु प्रतिवेदन दिया. अकबानी ने ठाकरे को बताया कि विदर्भ रूरल इंडस्ट्रीज
एसोसिएशन 1250 लघु उद्योग करने वाले सदस्यों की संस्था है.

लॉकडाउन में बहुत से लघु उद्योग बंद होने के कारण यह उद्यमी आर्थिक नुकसान और मानसिक तनाव से ग्रस्त हैं. यह लोग अपना घर खर्च, किराया, सरकारी कर, बिजली बिल, बैंक का ब्याज, कर्मचारियों का वेतन, आदि देने में पूरी तरह कमजोर हो चुके हैं. बहुत सी उद्योग इकाइयां बंद हो गई हैं, आज हमारे नागपुर जिले में
2,000 आरा मशीन हैं, जो कि लघु उद्योग में शामिल हैं, इन आरा मशीनों में 20,000 कर्मचारियों को रोजदारी पर उनकी तनख्वाह मिलती है, जिससे वह गरीब अपने परिवार का पेट पालते
हैं.
लॉकडाउन के कारण रोजंदारी वाले कर्मचारियों को भूखे मरने की
नौबत आ गई है. लकड़ा दूसरे देशों से आयात किया जाता है तथा साथ ही सरकारी डिपो से भी खरीदा जाता है, जिसकी अग्रिम राशि 1/4 तुरंत जमा करनी पड़ती है तथा 3/4 रकम का भुगतान 45 दिनों के अन्दर करना अनिवार्य है. बाकी रकम का भुगतान समय पर नहीं करने पर, उसकी अग्रिम राशि जप्त कर, उस औद्योगिक इकाई
को काली सूची में डाल देते हैं.
लॉकडाउन में मशीन बंद होने की वजह से बहुत सारा लकड़ा आरा मिल के गोदामों में पड़ा है.वर्तमान में गर्मी का मौसम शुरू है. गर्मी से आग लगने की संभावनाएं अधिक होती हैं. जिलाधिकारी ने
विदर्भ रूरल इंडस्ट्रीज के प्रतिनिधिमंडल की समस्याओं को ध्यान से सुनने के बाद कहा कि वे लकड़ा उद्योग व आरामशीन की समस्याओं को प्रशासन के समक्ष रखकर इन्हें अत्यावश्यक सेवा में शाामिल करवाते हुए नियमित रूप से शुरू करवाने की व्यवस्था करवाएंगे.
इस अवसर पर नाग विदर्भ चेंबर के पूर्व अध्यक्ष दिपेन अग्रवाल एव
सलीम अजानी उपस्थित थे. यह जानकारी अध्यक्ष अकबानी ने दी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.