- Breaking News, नागपुर समाचार

नागपूर समाचार : शहर के बालक काव्य अग्रवाल सबसे कम उम्र की लिखि भगवद गीता

एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स मे दर्ज हुआ नाम

नागपुर समाचार, 29.12.2021 : हमारे अपने नागपुर के लिटिल वंडर 10 वर्षीय काव्य अग्रवाल ने कई कीर्तिमान स्थापित करने का कीर्तिमान बनाया है! काव्य ने ‘किडटैस्टिक’ नामक भगवद गीता लिखि है जिससे काव्य सबसे कम उम्र वाले लेखक बन गए हैं. ‘किडटैस्टिक’ में काव्य ने भगवद गीता के श्लोकों का अर्थ समझाया है, अध्यायों का अपने शब्दों में अनुवाद किया है और प्रत्येक अध्याय से ‘काव्य की सीख’ दी है। यह किताब ऑनलाइन उपलब्ध है।

(https://www.amazon.in/dp/8195181805/ref=cm_sw_r_apan_glt_fabc_16PTPFKVM2QJDP5ZKBWK)

काव्य ने अपनी उपलब्धि पर प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए बताया कि बहुत ही कम उम्र में ही उनका झुकाव भगवद्गीता के बारे में अधिक से अधिक जानने की ओर हो गया था। बाद में उन्होंने भगवद् गीता पर कार्यशाला में भाग लिया, जिसने उन्हें संस्कृत के श्लोकों को सीखने और पढ़ने और इसके विभिन्न आयामों को प्रकट करने के लिए भगवद् गीता पर शोध करने के लिए प्रेरित किया। माता-पिता और दादा-दादी, नाना-नानी के समर्थन ने काव्य को पुस्तक लेखन करने के लिए प्रोत्साहित किया।

काव्य जहां भी जाते है अपने भगवान कृष्ण की मूर्ति को ले जाते है। काव्य ने मूर्ति के साथ एक जुड़ाव विकसित किया है और काव्य का मानना है कि मूर्ति उन्हें जीवन में अच्छा करने के लिए प्रेरित करती है। काव्य ने अपने स्वयं के विजूलाईजेशन द्वारा पुस्तक को डिजाइन करने में योगदान दिया है। काव्य ने पुस्तक पढ़ने वाले बच्चों की रुचि को ध्यान में रखते हुए रंगीन चित्रों, भगवान कृष्ण की कहानियों और कलरिंग स्पेस को शामिल किया है।

काव्य का मानना है कि भगवद् गीता और भगवान कृष्ण उनकी प्रेरणा हैं। यह पवित्र ग्रंथ उनका मार्गदर्शन करने और पुस्तक लिखने में सहायक रहा है। काव्य के अनुसार, भगवद् गीता दुनिया भर में मनुष्यों की समस्याओं का समाधान है। काव्य के माता-पिता रश्मि अग्रवाल और राज अग्रवाल उनके सभी उपक्रमों में ऊनका का समर्थन करते रहे हैं। साथ ही उनके दादा-दादी महेश और मीना अग्रवाल और नाना-नानी अनीता और महेंद्र अग्रवाल काव्य के संस्कृत और शास्त्रों के प्रति झुकाव से खुश हैं। काव्य को कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है जिनमें प्रमुख रूप से शामिल हैं।

  • सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट पुणे द्वारा “ग्रोथ आइकन”। यह पुरस्कार भगवद गीता पुस्तक से संबंधित है।
  • संस्कारित राष्ट्रीय ओलंपियाड, ट्रॉफी और प्रमाण पत्र और 25हजार का नकद पुरस्कार।
  • संस्कृत श्लोक पाठ के लिए इंडिया स्टार आइकॉन किड्स अचीवर अवार्ड
  • ऑक्सफोर्ड बिग रीड, ग्लोबल विनर. इसमे काव्य को आई-पैड से नवाजा गया। पिछले साल इसी प्रतियोगिता में वह उपविजेता रहा था।

संस्कृत भाषा विषयक कई उपलब्धियों के अलावा, काव्य उत्कृष्ट चित्र बनाते हैं और बंगाल बोर्ड द्वारा आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं का विजेता रहे हैं। उन्होंने बंगाल बोर्ड से शास्त्रीय संगीत की परीक्षा भी दी और जीती। काव्य गिटार बहुत अच्छा बजाते हैं। काव्य एक सार्वजनिक वक्ता हैं, और ऊनकी अंग्रेजी पर अच्छी पकड़ है। काव्य संस्कृत के श्लोकों और कविताओं का बेहतरीन पाठ करते हैं। काव्य योग के भी राष्ट्रीय विजेता हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.