- Breaking News, नागपुर समाचार

नागपुर : ओबीसी आरक्षण में हिस्सेदारी स्वीकार नहीं : देवेन्द्र फडणवीस 

फडणवीस ने कहा कि ओबीसी मोर्चा आगामी समय में एक सम्मेलन आयोजित करे

नागपुर : विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि भाजपा को ओबीसी आरक्षण में किसी दूसरे की हिस्सेदारी स्वीकार नहीं है। उन्होंने कहा कि ओबीसी आरक्षण पर भाजपा की भूमिका स्पष्ट है। अब राज्य सरकार के मंत्रियों को अपनी भूमिका साफ करनी चाहिए क्योंकि मंत्रियों ने ओबीसी आरक्षण पर प्रश्नचिन्ह खड़ा किया है। रविवार को दादर स्थित मुंबई भाजपा कार्यालय वसंतस्मृति में भाजपा ओबीसी मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी बैठक हुई। इसमें भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष योगेश टिलेकर समेत पार्टी के वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

फडणवीस ने कहा कि सरकार के मंत्री ओबीसी समाज का मोर्चा निकाल रहे हैं। मंत्रियों को मोर्चा निकालने का अधिकार नहीं होता। इसलिए उन्हें इस्तीफा देकर मोर्चा में शामिल होना चाहिए। लेकिन मैं कहता हूं कि मंत्री अपने अधिकार का इस्तेमाल करें। मंत्री राज्य मंत्रिमंडल में प्रस्ताव मंजूर कराएं कि ओबीसी आरक्षण को धक्का नहीं लगेगा। फडणवीस ने कहा कि सरकार को ओबीसी आरक्षण को लेकर चेतावनी भी दी। उन्होंने कहा कि ओबीसी आरक्षण को हाथ लगाया गया तो खबरदार। भाजपा सड़क पर उतर जाएगी। फडणवीस ने कहा कि ओबीसी मोर्चा आगामी समय में एक सम्मेलन आयोजित करे। जिसमें ओबीसी समाज के सभी 353 जातियों के प्रतिनिधि के रूप में पांच-पांच लोगों को बुलाया जाए। 

मदद करने के बाद वोट मिलने की आशंका- पाटील 

बैठक में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष चद्रकांत पाटील ने पार्टी के ओबीसी मोर्चा को लोगों की मदद के लिए ट्रस्ट बनाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि लोगों की मदद करने के बाद वोट मिलता है कि नहीं इस पर थोड़ी आशंका है। यदि लोगों की मदद के बाद वोट मिलता तो फडणवीस सरकार के जाने का कोई कारण नहीं था। लेकिन हमें ओबीसी मोर्चा का ट्रस्ट वोट पाने और सरकार बनाने के लिए बल्कि सेवाभाव को ध्यान में रखते हुए करना है। पाटील ने कहा कि ओबीसी मोर्चा की ओर से राज्य के 97 हजार बूथ पर दस-दस लोगों की नियुक्ति की जाए। इसमें से 50 हजार बूथ के दस-दस लोगों की मदद से मुंबई में नवंबर अथवा दिसंबर में आंदोलन किया जाएगा। 

मैं आरती के लिए बॉडीगार्ड पैसे मांगता हूं- पाटील 

पाटील ने कहा कि मैं ओबीसी मोर्चा के ट्रस्ट के लिए राशि अपने जेब से नहीं दूंगा। मैं मिल मजबूर का बेटा हूं। मैं तो आरती में पैसे देने के लिए अपने बॉडीगार्ड से सौ रुपए मांगता हूं। पाटील ने कहा कि लोगों की सेवा के बाद वे कहते हैं कि हम आपके लिए क्या कर सकते हैं। ऐसे लोगों से ट्रस्ट के लिए जनभागीदारी के जरिए पैसे जुटाए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.