- Breaking News, नागपुर समाचार

नागपुर समाचार : नागपुर महापौर जोशी ने तुकाराम मुंढे के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत, पढ़िए क्या है पूरा मामला..?

नागपुर समाचार : नागपुर के सत्ता पक्ष, विपक्ष और नागपुर महानगर पालिका के आयुक्त तुकाराम मुंढे के बीच तनातनी का मामला महाराष्ट्र ज़ाहिर है नागपुर की जनता के साथ-साथ महाराष्ट्र की जनता, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री भी इस बात से वाकिफ है लेकिन आज यह मामला और बढ़ गया मामला यहां तक बढ़ा कि नागपुर के सदर थाने तक पहुंच गया और अब नागपुर महानगरपालिका के आयुक्त तुकाराम मुंढे पर ही भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है यह आरोप किसी और ने नहीं बल्कि सत्ता पक्ष में बैठी बीजेपी के नगरसेवक और नागपुर महानगरपालिका के मेयर संदीप जोशी ने लगाया है ,संदीप जोशी आज तुकाराम मुंढे की शिकायत लेकर नागपुर के सदर थाने पहुंचे और उन्होंने नागपुर महानगरपालिका के आयुक्त तुकाराम मुंडे के खिलाफ भ्रष्टाचार की शिकायत पुलिस से की।

महापौर संदीप जोशी ने तुकाराम मुंढे के खिलाफ 420, फोर्जरी, भ्रष्टाचार की शिकायत की है और स्मार्ट आयुक्त को वस्मार्ट भ्रष्टाचारी कहां है, मेयर संदीप जोशी ने आरोप लगाया है कि 2016 में गठित स्मार्ट और सस्टेनेबल सिटी इस कंपनी में कई डायरेक्टर है और इसमें सीईओ का भी पद है इस स्मार्ट और सस्टेनेबल सिटी 2016 में जो-जो डायरेक्टर है उनके नाम स्पष्ट रूप से दर्शाए गए हैंं, यहां पर किसी भी पद को डायरेक्टर के रूप में स्वीकार करने की इजाजत नहीं है, यह जो भी है वह व्यक्ति विशेष है और जो भी व्यक्ति होंगे वह इंडक्शन के बाद ही इसमें डायरेक्टर या सीईओ बनेंगे, 11 फरवरी को स्मार्ट और सस्टेनेबल सिटी 2016 में रामनाथ सोनवणे सीईओ थे लेकिन उन्होंने 11 फरवरी को इस पद से इस्तीफा दे दिया जिसके बाद यह पद खाली है 31 दिसंबर 2019 को इस कंपनी की मीटिंग भी हुई लेकिन उसके बाद सीईओ पद के लिए किसी का भी नाम सामने नहीं आया और वह पद तब से अब तक खाली है।

लेकिन 27 जनवरी 2020 को तुकाराम मुंढे नागपुर महानगरपालिका के आयुक्त बन कर आये और वह खुद ही अपने आप को स्मार्ट और सस्टेनेबल सिटी का सीईओ समझने लगे जबकि वह डायरेक्टर भी नहीं रहे, संदीप जोशी ने आरोप लगाया है कि बात इतनी तक होती तो भी ठीक था लेकिन उन्होंने खुद ही इस कंपनी का रिजर्वेशन बनाया और बैंक ऑफ महाराष्ट्र में लेटर भी दे दिया और खुद बैंक ऑफ महाराष्ट्र के अकाउंट को संचालित करने का बिल भी पास कर उसको संचालित भी करने लगे और उस के माध्यम से ही वह इस अकाउंट से गैर व्यवहार भी करने लगे।

महापौर संदीप जोशी के आरोप के अनुसार तुकाराम मुंढे ने कचरे के 42 करोड का एक टेंडर भी कैंसिल कर दिया जबकि अपने मन अनुसार 50 करोड का एक टेंडर भी जारी कर कंपनी को दे दिया अब यह 8 करोड कहां से आएंगे ? कैसे आएंगे इसकी भी चिंता थोड़ी भी तुकाराम मुंडे ने नहीं की, सबसे बड़ा सवाल है कि जब वह इसके सीईओ है नहीं, कोई लिखित आदेश नहीं है तो ऐसे में तुकाराम मुंडे ने इस फंड का गैर वापर कैसे किया ? और खुद से ही रेसोलुशन पास कर यह लेटर कैसे जारी कर दिया इसलिए वह खुद तुकाराम मुंढे की शिकायत करने पहुंचे हैं और तुकाराम मुंडे के खिलाफ 420, 409 जैसी धारा के तहत शिकायत की है।

इस पर पुलिस डीसीपी विनीता साहु ने कहा है की मेयर संदीप जोशी ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाई है और हमने शिकायत ले ली है, अब इस मामले में कितनी सचाई है ये जांच के बाद ही पता चलेगा इसकी जांच पुलिस के EOW से होगी और इसके बाद ही आगे के कार्यवाही होगी, फ़िलहाल सिर्फ शिकायत ली गयी है कोई FIR दर्ज नहीं की गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.