- Breaking News, कोविड-19, नागपुर समाचार

नागपुर : शहर में जम्बो हास्पिटल बनाने की मांग : विधायक विकासजी ठाकरे

विधायक विकासजी ठाकरे मिले उपमुख्यमंत्री अजीत पवार से 

नागपुर : उपराजधानी में कोरोना बेलगाम हो चुका है. पिछले 7 दिनों में यहां 11,477 कोरोना मरीज पाये गये है जबकि 320 लोगों ने अपनी जान. गंवा दी. कुल मरीज 41,032 और मृतकों का आंकड़ा 1,365 तक पहुंच चुका है. हाल यह है कि कोरोना पाजिटिव मरीजों को सरकारी हास्पिटलों में बिस्तर नहीं मिल पा रहे. आने वाले कुछ दिनों में यह स्थिति और अधिक गंभीर होने वाली है. सभी की ताकत नहीं कि वे प्राइवेट हास्पिटलों के भारी-भरकम बिल भर सके. ऐसे में सरकार ने बांद्रा-कुर्ला की तर्ज पर नागपुर में भी जल्द से जल्द जम्बो हास्पिटल बनाना चाहिए. पश्चिम नागपुर के विधायक विकासजी ठाकरे ने उपमुख्यमंत्री अजीत पवार से मिलकर यह मांग की ताकि भविष्य में अनेक जानें बचाई जा सकें. 

5-5 अस्पतालों में भटक रहे मरीज

विकासजी ठाकरे ने पवार के समक्ष शहर के कोरोना स्थिति रखते हुए कहा कि आरेंज सिटी में हालात अब हाथ से निकल चुके हैं. आईसीएमआर ने पहले ही चेताया था कि नागपुर में 10,000 से अधिक कोरोना मरीज हो सकते है. लेकिन इनकी संख्या 11,000 का आंकड़ा पार कर चुकी है. हर दिन 1500 से अधिक कोरोना पाजिटिव पाये जा रहे हैं. हाल यह हो चुके हैं कि मरीजों को भर्ती होने के लिए 5-5 हास्पिटल भटकना पड़ रहा है. शहर में मेयो, मेडिकल और एम्स जैसे बडे हास्पिटल भी हाउसफुल हो चुके हैं. वहीं, प्राइवेट हास्पिटलों की भारी-भरकम फीस ना भर पाने के कारण मरीज सही समय पर इलाज नहींहकरा पा रहे. यही वजह है कि नागपुर में कोरोना पाजिटिव मरीजों की मौत का आंकडा लगातार बढ़ रहा है. इसी सप्ताह 2 दिनों में क्रमश: 54 और 50 मरीजों ने दम तोड़ा.

काम नहीं आ सका 5,000 बेड का कोविड सेंटर

मुख्यमंत्री अजीत पवार को अधिक जानकारी देते उन्होंने बताया कि स्थानीय प्रशासन ने शहर से 25 किमी दूर राधास्वामी सत्संग मंडल में 5,000 बिस्तर को कोविड केअर सेंटर बनाया था. लेकिन यह सेंटर धरा का धरा रहे गया. आईसीएमआर की चेतावनी के बाद भी स्थानीय प्रशासन स्थिति नहीं संभला सका. मनपा के 5 हास्पिटलों में केवल 450 बिस्तर ही उपलब्ध है जबकि बाकी सरकारी हास्पिटलों में कुल 3,078 बेड है. जिस तरह मौत का आंकड़ा बढ़ रहा है, उसके मुकाबले गंभीर रूप से बीमार मरीजों के लिए भी बेड की यह संख्या नाकाफी है. ऐसे में सरकार ने तत्काल प्रभाव से कोरोना व्यवस्था अपने हाथ में लेकर बांद्रा-कुर्ला में बने जम्बो हास्पिटल की तरह नागपुर में भी ऐसा ही विशाल हास्पिटल तैयार किया जाये, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने सारी बात सुनने के बाद उचित सहायता को आश्वासन दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published.