- Breaking News, नागपुर समाचार

नागपूर समाचार : दिल्ली पब्लिक स्कूल में फीस वसूली के विरोध में पालको का प्रदर्शन

नागपुर समाचार : वर्तमान में नो स्कूल – नो फीस मुहीम चलते पालको ने दिल्ली पब्लिक स्कूल पर अपनी मांगो को लेकर जबरदस्त प्रदर्शन किया। पालको ने उनपर हो रहे अनदेखी के चलते विदर्भ परेसन्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संदीप अग्रवाल को हस्तक्षेप की मांग की। जिसके बाद संदीप अग्रवाल ने वहा जाकर पालको से मुलाकात कर पालको की समस्या स्कूल प्रबंधन के सामने रखी लेकिन उन समस्याओं को लेकर स्कूल प्रबंधन गंभीर नहीं दिखा और ताल मटोल रवैय्ये में बात करने लगा। स्कूल प्रबंधको द्वारा वहा पहले से ही पुलिस को बुलाया गया था, जिसका पालको ने विरोध किया।

संदीप अग्रवाल ने स्कूल प्रबंधन से निवेदन किया की लॉकडाउन के दौरान छात्रों की 3 माह की फीस माफ़ की जाये तथा शैक्षणिक वर्ष 2020 – 2021 की स्कूलों की फीस में 50 % छूट दी जाए तथा पाठक्रम व स्कूल गणवेशो में इस वर्ष कोई भी बदलाव नहीं किया जाए। आगे अग्रवाल ने कहा की देश बहुत कठिन परिस्तिथि से गुजर रहा है। कोविद -19 ने सभी की आर्थिक रूप से कमर तोड़ दी है। लॉकडाउन के चलते देश के सभी परिवार आर्थिक नुकसान का सामना कर रहे है। इस दौरान अपने आप को और परिवार को इस महामारी से बचाने में हर नागरिक लगातार कोशिश कर रहा है। तक़रीबन प्रदेश की सभी स्कूले 10 मार्च से बंद पड़ी है और छात्र अपने घर पर ही पढ़ने के लिए मजबूर है। जिससे कई स्कूलों में परीक्षाएं भी नहीं हो पायी है। अतः इस वर्ष मार्च से मई की फीस माफ़ की जाना आज की आवश्यकता है। जिन पालको ने इन माह की फीस पहले ही जमा कर दी थी उन्हें उसका क्रेडिट दिया जाए और वर्ष 2020 – 2021 में उतना पैसा कम किया जाए।

अग्रवाल ने आगे कहा की हाल ही में ऐसा देखने में आया है की कई CBSE स्कूलों ने फीस की मांग चालू कर दी है जो पूरी तरह मानवता के खिलाफ व गैरवाजिब है स्कूल संचालको को शर्म आनी चाहिए की प्रति वर्ष फीस के करोडो रुपये डकारने के बाद भी इस तरह के संकट काल में गैर जवाबदारी बर्ताव कर रहे है। वर्तमान में कुछ स्कूलों द्वारा ऑनलाइन पढाई का ढोंग किया जा रहा है यह सब केवल फीस वसूल करने का बहाना है। स्कूले सरकारी आदेश के विपरीत स्कूल से कमर्शियल एक्टिविटी जैसे के कॉपी किताब बेचना आदि कर रही जिस पर तुरंत कार्यवाही करने की आवशकता है। वही प्रदर्शन में मौजूद पालको ने कहा की स्कूलों का अगर ऐसा ही रवैय्या रहा तो वे अपने बच्चों को 1 साल के ड्राप आउट करा लेंगे तथा जब तक कोरोना की वैक्सीन नहीं आ जाती तब तक वे अपने बच्चो को स्कूल नहीं भेजेंगे। इस अवसर पर पंकज जैन, सुरेश हसवानी, महेश गिडवानी, उदय गहने, नितेश भतिअ, अभिषेक बेलसरे, हितेश अग्रवाल, सुनीता जोशी, कपिल चौरसिया धर्मेश दोषी, विजय कुकरेजा, रोशन शाहू, विक्रम राव आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.