- Breaking News, नागपुर समाचार

नागपुर : भू-माफियाओं के खिलाफ शिकायतों का तांता, भूमापन के खिलाफ भी शिकायतें

नागपुर : सीधे नागरिकों की विभिन्न समस्या जानने के लिए गृह मंत्री अनिल देशमुख द्वारा विशेष शिकायत निवारण शिविर लिया जा रहा है. सोमवार को पुलिस जिमखाना में आयोजित दूसरे चरण में देशमुख ने 75 शिकायतों पर सुनवाई की. इसमें ज्यादातर शिकायतें संपत्ति के विवाद से जुड़ी और भूमाफियाओं के खिलाफ थी. देशमुख ने पुलिस और संबंधित विभाग के अधिकारियों को जल्द से जल्द सभी मामलों की जांच कर शिकायत निवारण करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि शहर में अपराध के ग्राफ को कम करने में पुलिस विभाग काफी अच्छा काम कर रहा है.

नागरिक भी जागरूकता के साथ पुलिस का सहयोग कर रहे हैं, इस शिविर के माध्यम से पुलिस और नागरिकों के बीच संबंधों को बढ़ाया जा रहा है. भूमाफियाओं पर अंकुश लगाने के लिए विशेष शिकायत निवारण शिविर’ एक पायलट परियोजना है.

शाहनवाज़ गैंग पर दर्ज होगीं FIR

शिविर में सबसे गंभीर शिकायत भूमाफिया शहनवाज और उसकी गैंग के खिलाफ थी. सीपी अमितेश ने बताया कि प्राथमिक जांच में ही प्रकरण में आपराधिक षडयंत्र जमीन पर अवैध कब्जा जमाने का दिख रहा है. जिस जमीन का सरकारी मूल्य 4 और बाजार मूल्य 5 करोड़ है. उसकी रजिस्ट्री केवल 80 लाख रुपये में करवा दी गई. 60 लाख नकद और 20 लाख रुपये चेक से दिए गए, जिससे जमीन के कागजातों पर हस्ताक्षर करवाएं गए उस व्यक्ति को केवल 1 लाख रुपये मिलने की जानकारी है. यह सरासर धोखाधड़ी का मामला है. जिन लोगों के खिलाफ शिकायत आई है उनपर जमीन पर अवैध कब्जा जमाने और धोखाधड़ी के कई मामले दर्ज है. जल्द ही पुलिस उन पर सख्त कार्रवाई करेगी.

इस शिविर के माध्यम से जमीन से जुड़े धोखाधड़ी और बढ़ते अपराध पर अंकुश लगाने के लिए उचित कार्रवाई करके नागरिकों की शिकायतों को तेजी से निपटाया जा रहा है. इस बैठक में पुलिस कमिश्नर अमितेश कुमार, डीआईजी सुनील फुलारी, नवीनचंद्र रेड्डी, दिलीप झलके, डीसीपी विनीता साहू, लोहित मतानी, अक्षय शिंदे, नीलोत्पल,गजानन राजमने, विवेक मासाल, सारंग अवाड़, बसवराज तेली, संदीप पाखले, मनपा उपायुक्त मिलिंद मेश्राम, महेश मोरोने, एनआईटी कार्यकारी अभियंता एस.एन.चिमुरकर, सब-रजिस्ट्रार किशोर बलिंगे, अनंत अर्मेकर, ए.सी. उघड़े, एमआरडीए के उपनिदेशक आर. पी. चौरसिया, सतीश पवार, तहसीलदार सूर्यकांत पाटिल और भूमिअभिलेख अधीक्षक गजानन दाबेराव सहित संबंधित विभाग के अधिकारी भी शिविर में उपस्थित थे.

भूमापन के खिलाफ भी शिकायतें

इस शिविर में अधिकांश लोग जमीन से जुड़ी शिकायतें लेकर आए थे. ज्यादातर मामलों में भूमापन विभाग से जुड़ी समस्याएं थी. कई प्रकरण ऐसे थे जिसमें विभाग ने बिना दस्तावेजों की जांच किए नामांतरण कर दिया. भूमाफियाओं ने फर्जी दस्तावेजों के जरिए रिकॉर्ड में फेरबदल करवाया.कई लोगों ने भूमि अभिलेख विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की शिकायत की.

कुछ मामले ऐसे भी देखने को मिले जिसमें सीधे अधिकारियों की भूमिका संदेहास्पद है. देशमुख ने संबंधित जोन के डीसीपी और अन्य विभागों के अधिकारियों को जल्द से जल्द एक्शन लेने के निर्देश दिए. इसके अलावा कुछ शिकायतें आर्थिक अपराधों से भी जुड़ी हुई थी. देशमुख ने कहा कि वित्तीय निवेश करने से पहले नागरिकों को संस्था के बारे में जांच करनी चाहिए. किसी के बहकावे या भ्रम में नहीं पड़ना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.